बुधवार, 19 मई 2010

मै नहीं मानता कि ब्लॉगजगत केवल आतंकवादियों और उनके समर्थको से या नपुन्सको से ही भरा पड़ा है!

यहाँ सुनील जी को पढ़ा  तो मुझसे रहा ना गया!मै वहा भी इस बात पर अपनी असहमति उनसे जता चुका हूँ!पर लगा वो पर्याप्त नहीं है!

मै नहीं मानता कि ब्लॉगजगत केवल आतंकवादियों और उनके समर्थको से या नपुन्सको से ही भरा पड़ा है!एक-आध गन्दी मछली तालाब को गन्दा दिखा जरुर सकती है पर उसे गन्दा नहीं कर सकती!मेरा तो ऐसा ही मानना है!हम सभी की एक पहचान बन गयी है!भले ही वो हमने ही बनायी हो,बन गयी है!बस उसी को सजाने,सवांरने के चक्कर में हम कई जगह,जहाँ विरोध जरुरी है विरोध और जहाँ समर्थन जरुरी है समर्थन नहीं दिखा पाते!ये हमारी मजबूरीतो है पर  कमजोरी नहीं हो सकती!कुछ पंक्तियाँ यहाँ प्रस्तुत करना चाहूँगा....

जो मजबूत है
वो मजबूर भी तो हो सकता है,
जो हो गया प्रभु मर्जी जान
उसे मन्जूर भी तो सकता है,
मौन उसका
प्रतिशौध का तंदूर भी तो हो सकता है,
भ्रम कैसा भी हो
वो दूर भी तो सकता है!


हिन्दू बेचारा नहीं है,
उनको बेचारा जान सहम जाता है,
विनाश देखा है कई बार उसने,
इसीलिए उन पर रहम खाता है,
अपनी बलि देकर भी शांत हो जाए माहौल,
ये सोच मरता जाता है,
ना कुरेदो उसकी आत्मा को,
भड़का तो तांडव भी वो मचाता है!

कुछ तो उन्ही की पोस्ट पर टिप्पणी स्वरुप पहले भी लिखी जा चुकी है कुछ नयी है!मै बस यही बताना चाह रहा हूँ कि
यहाँ कोई भी कमजोर नहीं मजबूर नहीं,
बस वो मान बैठे है कि हम उस परमात्मा के नूर नहीं,
बस थोडा मुह फिर गया है सच्चाई से,वो सच से दूर नहीं,
सच्चाई है कडवी तो लगेगी ये कोई लड्डू मोती चूर नहीं!

जय हिन्द,जय श्रीराम,
कुंवर जी,















कुंवर जी,

31 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, १०० टके की बात कह दी कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. Ek baat aur , aap apne blog se kuch saamgree hataaiye . aksar meraa computer hang ho jaataa hai !

    उत्तर देंहटाएं
  3. @फिरदौस जी आपके सहयोग से मेरा हौसला और बढ़ गया है!

    @गोदियाल जी -मै आपसे सहमत हूँ!मै स्वयं भी सोच रहा था इस बारे में....

    आज ही अभी अमल होगा जी...

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह,,किसी बात को कविता के माध्यम से कहना,वो भी तत्काल लाजवाब.,,,आपसे सहमत हूँ ...अच्छा लगा ....

    विकास पाण्डेय
    www.vicharokadarpan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक सोच की अभिव्यक्ति /

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. DHANYAWAAD KUNWAR JI BLOG PAR ANE AUR AUR MERA HOSLA BADHANE KE LIYE
    UMEED HAI AGE BHI MERA HOSLA BADHAYEGE

    उत्तर देंहटाएं
  8. sahi kaha kunwar ji..par aaj ka yuva bhatak gaya hai...25 varsh se kam umr ke jyadatar yuvak dharm se door ho gaye hain...unhe dharm ka gyaan hona zaruri hai varna kahin dharm khatm na ho jaaye...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुंवर जी हमारी बात का सार्थक जबाब देने के लिए धन्याबाद।
    आपने कविता के माध्यम से हमारे दिल की बात कह दी
    बस एक ही प्रश्न

    पुष्प कांटो में खिलते हैं,
    दीप अंधेरों में जलते हैं
    आज नहीं युगों से प्रहलाद,
    पीड़ाओं में पलते हैं
    भला यातनाओं के बल पर,
    क्या कभी क्रांतिकारी रूकते या डरते हैं?

    आखिर कब तक हम अपनों की बलि चड़ता देखकर भी चुप रहेंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक पसंद के चटके के साथ लौट रहें हैं आपसे ये जानने के लिए कि गद्दारों की सरदार के वारे में आपकी क्या राय है।अपनी पोस्ट पर आपके जबाब के इन्तजार में

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या आपने देखा कि आपकी इस पोस्ट को एक नपुंसक गद्दार ने नापसंद किया है।इसन पुंसक गद्दार को ये अच्छा नहीं लगा कि आपने इस गद्दार के अस्तितव को नकार दिया।शायद यही गद्दार हमारी हर पोस्ट को नापसंद कर अपने होने का एहसास करवाता है

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी बातों से मैं भी सहमत हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढ़िया कविता, कुंवर जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अजी आपकी बात से असहमत होने का तो कोई सवाल ही नहीं हैं...बस अपनी बनी उस पहचान को संजाने संवारने का ही चक्कर है..

    उत्तर देंहटाएं
  15. बिल्कुल सही कहा आपने ......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  16. कुंवर जी कुछ दिन पहले आपने एक पोस्ट में कहा था की
    "बेचारा हिंदू होगा "
    वाकई बहुत जबरदस्त लेखन दिखा आज आपकी कल्पना का.
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिल्कुल सही भईया आपने , एक-एक शब्द से सहमत हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिलकुल सही और तार्किक रूप से कही है अपनी बात...और इस बात से मैं हाउ प्रतिशत सहमत हूँ...बहुत बढ़िया ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. आप सभी के समर्थन के लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद है जी....

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  20. कुँवर जी .
    प्रशंसनीय कथ्य ।
    कुछ रोग ऐसे हैं
    जिन्हे कुकरौंधा चाहिए ।
    कुछ लोग ऐसे हैं
    जिन्हे ..........चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रशंसनीय ।
    हम सब देश व समाज के लिए समर्पित हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. आज पता नहीं क्या दिक्कत आई हुई है!मुझे अपनी पोस्ट पर आये सारे कमेन्ट नहीं दिख रहे है,इसी कारण मै सभी को समुचित सम्मान नहीं दे पा रहा हूँ!मुझे आशा है आप मेरी समस्या को समझेंगे!आप सभी के सहयोग और समर्थन के लिए एक बार फिर धन्यवाद है जी...



    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपने तो सही बात कही, पर बहुत से जाहिल लोग रोज ही ऊल जलूल बातें लिखकर माहौल को खराब करते रहते हैं।
    --------
    क्या हमें ब्लॉग संरक्षक की ज़रूरत है?
    नारीवाद के विरोध में खाप पंचायतों का वैज्ञानिक अस्त्र।

    उत्तर देंहटाएं
  24. ठीक कहा आपने
    मैं कई दिनों बाद ब्लॉग पे लोटी हू

    उत्तर देंहटाएं
  25. आगे ब्लॉग पे बनी रहूंगी
    कुंवर जी आप संजीव राणा जी को जानते हो क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  26. @zeal जी-आपका स्वागत है..

    आप सभी का धन्यवाद है जी,यहाँ आकर मेरा उत्साहवर्धन करने पर....

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers