मंगलवार, 18 मई 2010

कमी अपनों की खलती ही है!-(कविता)

रातो में,
बातो में,

कभी खयालो में
कभी हालातो में,

कभी जोश में
कभी जज्बातों में,

किसी से बिछुड़ने पर 
किसी की मुलाकातों में,

मौत के हमले में,
कभी जिंदगी की घातों में,

बोझ होते रिश्तों में
कहीं नए जुड़ते नातों में
.
.
.
कमी अपनों की खलती ही है! 

जय हिन्द जय श्रीराम,
कुंवर जी,

32 टिप्‍पणियां:

  1. हैरान हू
    परेशान हू
    सायद खुद से भी
    अनजान हूँ
    रिस्तो को समझ नही पाया जो आज तक
    किसी अपने के खोने से परेशान हू

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर ढंग से भावों को अभिव्यक्ति दी है आपने....सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. @राणा जी- आपने दिल कोछुने वाली बात कह दी!



    @दिलीप भाई-आपका स्वागत है जी,आपने भाव समझे,शुक्रिया...

    @रंजना जी-आपका स्वागत है जी!

    आप सभी का शुक्रिया!

    कुंवर

    उत्तर देंहटाएं
  4. bilkul kunwar ji ..kami to apno ki humesha kahlti hai ....badhiya kavita kahi aapne..."haalaat aur jazbaat" apne aap me bahu vachan hain jahaan tak meri jankari hai ...haalaton aur jazbaton karne se gadbad ho jayegi...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह भाई
    कमाल की अभिव्यक्ति

    राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर तारतम्यमय रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन कुंवर जी, सुन्दर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  8. @ललित जी,@ वर्मा जी-आपका स्वागत है जी,हौसला बढाने के शुक्रिया!

    @आतिश जी-आपका शुक्रिया जो इस छोटी मगर गम्भीर गलती से परिचय करवाया!अब से पहले ऐसे सोचा ही नहीं था!वैसे ऐसे पलो में नियमादि का ध्यान कहाँ रहता है!

    इसे कैसे सुधारा जाए जो कविता की मूल भावना भी बची रहे!ऐसे ही मार्गदर्शन करते रहे!

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  9. @गोदियाल जी-बस ऐसे ही स्नेहाशीष बनाए रखे....

    कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई वाह क्या बात है , लाजवाब प्रस्तुति , उम्दा अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बोझ होते रिश्तों में
    नए जुड़ते रिश्तों में ....
    कमी अपनों की ही खलती है ...
    ख़ामोशी भी, तंज़ भी अपनों का ही खलता है ज्यादा ....
    अच्छी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  12. उत्तम भाव कम शब्दों में, सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति ....सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. ...बहुत सुन्दर,प्रसंशनीय !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच में यही सच में जीवन कि सच्चाई थी जो कभी घटी और फिर घटती चली गयी . इसने जीवन कही का नहीं छोड़ा . किसी वस्तु में आनंद नहीं ,
    " मौत के हमलो में कभी जिंदगी की घातों में "
    मुझे तो यही पंक्ति पूरी कविता की आत्मा लगी या शायद मेरी आत्मा के ज्यादा पास थी इसीलिए अच्छी लगी . मन को गहरी संवेदना को प्रगट कर दिया इस कविताने
    Hats Off to you hardeep !!!!!!!!!!!!!!!!!!
    इसी रचनाकार की मैं बात कर रहा था और वो हिन्दू मुस्लिम में फंसा हुआ था .
    जबरदस्त और महान लेखन के लिए साधुवाद . ऐसे ही लिखते रहे , ये निष्काम भक्ति में गिना जायेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय-@शाष्त्री जी,@वाणी जी,@नितीश राज जी,@अरशद जी@संगीता जी,@उदय जी-आपका स्वागत है जी,


    आप सब मुझ पर ऐसे ही स्नेहाशीष बरसाते रहना जी!

    @मिथिलेश भाई-आपको कविता बढ़िया लगी,आपका धन्यवाद है जी,जो आपने मझे प्रोत्साहित भी करने चले आये!

    आप सब ने मुझे मेरा दायित्व फिर स्मरण करवा दिया,अब खुद और अधिक जिम्मेवार मान रहा हूँ आ सब के प्रति!मै अपनी जिम्मेवारी इमानदारी से निभा पाऊं उसके लिए आपके इसी सहयोग की मुझे सदा जरुरत रहेगी!

    कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपनो की कमी तो खलती ही है बशर्ते वो अपने हो - अच्छी सोच और शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  18. जी कौशिक जी!

    स्वागत है जी आपका!अपने तो अपने ही होते है जी....

    कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहद सुन्दर रचना ,मन में कई नए विचारों को जन्म दे गई

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको पढ़ते तो रहे है लेकिन टिप्पणी देने आज आ पाए..सरल सहज शब्दों मे गहरी सम्वेदना मन पर असर करती है...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बेहतरीन और सुन्दर रचना .......

    उत्तर देंहटाएं
  22. @सोनल जी,@मिनाक्षी जी,@समीर जी,@देवेश भाई -आपका स्वागत है जी,आप सब को यहाँ देख कर सच में मै गर्व महसूस कर रहा हूँ!

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  23. सही कहा कुंवर जी, अपनों की कमी तो हमेशा ही खलती है.

    बेहतरीन रचना. बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  24. धन्यवाद शाहनवाज भाई....

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  25. हम कितनी भी बुलंदी पर क्यों न हो अपनी की कमी तो खलती ही हैं,,भावनात्मक रचना ..लाजवाब ,,

    विकास पाण्डेय
    www.vicharokadarpan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  26. Tanhaai mein apno ki kami to hamesha hi khalti hai ..bahut achaa likha hai Kunwar ji ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. @विकास जी,@नासवा जी-आपका स्वागत है जी!

    अपनों की कमी खाली थी और कलम अपने आप चली थी.....

    धन्यवाद आप सब का इतना प्यार बरसाने के लिए...

    कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers