गुरुवार, 18 मार्च 2010

ब्लॉग्गिंग के नए भगवान् oh sorry! खुदा..है जमाल भाई साहब! (हास्य ग़ज़ल)

जमाल भाई साहब,जमाल भाई साहब,
है बड़े कमाल भाई साहब!

ब्लोगवाणी  पर हर पोस्ट उनकी
कर जाती है धमाल भाई साहब!

तर्क भी कुतर्क भी,
वो देते है बेमिसाल भाई साहब!

अधूरा ज्ञान खतरा-ए जान
की है वो मिसाल भाई साहब!

ऊँची दूकान पर नहीं वो फीका पकवान
ज्ञान का है एक जंजाल भाई साहब!

उचित-अनुचित की कौन सोचे
जब हो "पाठक-गिनती" का सवाल भाई साहब!

सच-झूठ,इज्ज़त-बेईज्ज़ती का यहाँ
भला कौन करे ख्याल भाई साहब!

विचारों की दुकान खोल बैठ गए
मुझ जैसे विचारों  से कंगाल भाई भाई साहब!

हरदीप मुरख के चक्करों में क्या पड़ना
अपनी-अपनी मस्ती में रहो खुशहाल भाई साहब!

ब्लॉग्गिंग के नए भगवान्
oh sorry !खुदा..
है जमाल भाई साहब! 

किसी की भावनाओ को ठेस पहुंचाना मेरा मकसद नहीं,,,
मै सोचता हूँ के विशुद्ध मनोरंजन किया जाए!

अब कोई मुझ से ये पूछे कि मनोरंजन की चीज से मनोरंजन ना करे तो क्या करेंगे?
तो इसका जवाब तो मेरे पास है नहीं साहब!
और हाँ मुझ अज्ञानी से ये पूछ कर कुछ भी
हासिल नहीं होने वाला के जब खुदा मेहरबान हो तो कैसे "गधा भी पहलवान" हो जाता है?
कुंवर जी,

15 टिप्‍पणियां:

  1. dr. anwar jamal sahab ke roop men blog jagat ko ek nayab heera mil gaya hai....

    we meel ka patthar sabit honge...

    aur haan !! JAMAL BHAI aap pareshan na hoiye, ye abhi kavita likh rahe n hain abhi sher padhenge aur saath hi bahut kuchh likhenege aapke upar ... shuru men mere upar bhi aisa hi kuchh kiya jata tha...

    saty kii jeet hogi....

    JAI BHARAT!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ye jamal bhai kaun h
    jab kunwar ji ne itna kuch likha h to is naacheez ko bhi malum hona chahiye na

    उत्तर देंहटाएं
  3. जमाल को तो जमालगोटा बना कर प्रस्तुत किया है भाईसाहब आपने!!!

    जमालगोटे के रियेक्सन से जो निकलेगा वही तो जमाल की किस्मत मे होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. Kunwar ji aap ki post-Geeta Gyan yadi duryodhan ko milta to? me aap dwara uthaye gaye prashno ka samadhan shayad is jagah-http://www.divyamanavmission.org/Channels/dharm59/dharm69.aspx
    mil sakta h, waise iska matter whan bhi daal diya h.

    उत्तर देंहटाएं
  5. @dr. anwar jamal sahab ke roop men blog jagat ko ek nayab heera mil gaya hai....
    we meel ka patthar sabit honge...@
    aji salim bhaisaab Jamal Ji pathar to sabit ho rahe h,or aap jaise log unhe SANATAN DHARM RUPI SURYA pe fenk bhi rahe h, par yaad rakhiye suraj ko nishana banakar aasman me fenke gaye pathar fenkne wale ke hi karamde fhodte h.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये जमाल का कमाल ही तो है के हम सब यहाँ एक मंच पर इक्कट्ठा
    हो गए है!
    सलीम भाई जान जय भारत!
    अमित जी ने काफी कुछ कह दिया है मै कुछ ना बोलूँगा!
    भाई हम बोलेंगे तो तो बोलोगे के बोलता है!
    आप सभी के पधारने का व् सहयोग देने का हार्दिक स्वागत है!
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या जरूरत थी इस लम्पट चालीसा की?

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब मनोरंजन की चीज से मनोरंजन ना करेंगे तो क्या करेंगे..?
    एक खिलौना मिला है खेलने के लिए,सोचा थोडा हम भी खेल ले!
    बस कुछ और नहीं....
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers