शुक्रवार, 11 जून 2010

तेरी बेरुखी बेसबब तो ना होगी.....

तेरी बेरुखी बेसबब तो ना होगी,
यही सोच कर दिल हल्का हो गया,
इक पल तो रहे इस पल में,
फिर मन अतीत में खो गया,

जय हिन्द,जय श्रीराम,
कुंवर जी,

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दूसरों को समझना आसान नही होता पर आपने समझा ... आपकी रचना अच्छी लगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अतीत में खोया होगा सबब ढूँढने को... ये मन भी अजीब है. पहले गुस्ताखी करता है और फिर... :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. तेरी बेरुखी बेसबब तो ना होगी,

    दूसरों को समझना आसान नही होता पर आपने समझा ...

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers