सोमवार, 23 अप्रैल 2012

शब्द फूटे तो कहा धरूँ मै....(कुँवर जी)

 जो मुझे पसंद है
वो तो
होता नहीं..
जो हो रहा है
उसे ही पसन्द न करूँ तो
क्या करूँ मै!

झेल गया जब
मै
जो बीत चूका,
अब तो जो  भी बीते
भला उस से
क्या डरूँ मै !

गैरो से बच कर 
आया था 
अपनों की ओट में,
अब अपनों से
बचने के लिए
किसकी ओट करूँ  मै!


बहुत पीता हूँ
आंसुओ को
बिना शोर के,
ये शब्द
न माने मेरी,
फूटे तो
इन्हें कहाँ  धरूँ मै! 





जय हिन्द,जय श्रीराम,
कुँवर  जी,

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर लिखा है कुंवरजी आज, मन की व्यथा| गैरों के ज़ुल्म-ओ-सितम खेल लेते हैं क्यूंकि उनसे उम्मीद यही होती है लेकिन जब अपने ऐसा करें तो न कहते बनता है न छुपाये| सरमद की कहानी सुन ही रखी होगी जरूर..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Aadarniya sanjay ji, sarmad ki kahani to suni nahi bas kai bar kuchh anubhav ham dabav bnane lgte h to wo dabav shabdo ke roop me kaagaj utar aata h kabhi-kabhi...
      Ummed h jld hi sarmad ki kahani se b avgat kra denge aap...

      Kunwar ji

      हटाएं
  2. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन सार्थक रचना....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस कविता के भाव, लय और अर्थ काफ़ी पसंद आए। बिल्कुल नए अंदाज़ में आपने एक भावपूरित रचना लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सार्थक!!
    निर्थक दुविधाओं का प्रस्फुटन!!

    शब्द फूटे तो यहईं ब्लॉग पर धर दिया करें!! स्वागत!! शुभकामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sugya ji aabhar sujhav ke liye... Jb se blog jagat me aaye h yahi to kar rahe h.... Par sabhi kuchh b to btaya nahi jata kai baar

      Kunwar ji

      हटाएं
  5. bahut rochak lagi aapki rachna ek naya andaaj bahut nirmal ehsaas.bahut sundar.pahli baar pahunchi aapke blog par bahut achcha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. Aapka swagat hai ji, anusaran nahi ji margdarshan ki jrurat h ji aapke...

      Aabhar

      kunwar ji

      हटाएं
  7. सच्चाई से कही गयी बात अच्छी लगी .....

    उत्तर देंहटाएं
  8. shabdon ko dharne ke liye blog se behtar aur kaunsi jagah hogi....bahut sundar aur marmik rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी पोस्ट कल 26/4/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 861:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थकता लिए हुए सटीक अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप सभी का सादर स्वागत है! आपका आगमन एक नयी उर्जा का सन्चार करता है !

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह बहुत खूबसूरत शब्द संयोजन |

    उत्तर देंहटाएं
  13. कल 11/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत पीता हूँ
    आंसुओ को
    बिना शोर के,
    ये शब्द
    न माने मेरी,
    फूटे तो
    इन्हें कहाँ धरूँ मै!

    बहुत सुंदर भाव ..... बस इन शब्दों को अपने ब्लॉग पर धर दीजिये ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत -बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्ति है....
    बेहतरीन रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप सभी का स्वागत है...
    आपके आगमन से नव-चेतना का एहसास हो रहा है!एक जिम्मेवारी अब और बड़ी होती सी दिखाई दे रही है!
    आभार!

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers