मंगलवार, 12 जून 2012

कुछ लपटे तो वहा भी उठ रही थी!.....(कुँवर जी)

हर और आग थी,
जलन थी,
धुआँ...

बड़ी मुश्किल से एक कोना ढूँढा ...
बैठे,
कुछ अपने दिल में झाँका,
देखा...
कुछ लपटे तो वहा भी उठ रही थी!
अब..?


जय हिन्द,जय श्रीराम!
कुँवर जी, 

22 टिप्‍पणियां:

  1. दिल में जो धुंआ है ... वह जाता भी नहीं , ना ही पूरी तरह आग भभकती है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय रश्मि जी,
      आपका स्वागत है जी, यूँ लगा जैसे आपने अव्यक्त विचारो को को यहाँ लिख कर अधूरे भावो को पूर्ण कर दिया.,
      आभार!

      कुँवर जी,

      हटाएं
  2. गहरी बात कह दी आपने.... प्रशंसनीय रचना कुँवर जी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सन्जय भाई
      आपका to मुझे हमेशा ही इन्तजार रहता है.,
      आप बस यूँ ही मुस्कुराते रहिये...

      कुँवर जी.

      हटाएं
  3. अब इस आग से भी धुंवा उठने दो ... ये धुंवा ही बदलाव ले कर आयगा ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय नासवा जी..
      आपका स्वागत है जी,मार्गदर्शन और प्रोत्साहन के लिए आभार...

      कुँवर जी,

      हटाएं
  4. गहन चिंतन, आग की जड ही………!! ला-जवाब!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सुज्ञ जी..
      आपका स्वागत है जी,आपकी उपस्थिति हर्ष तो देती ही है साथ ही सचेत भी करती है सम्वेदनाओक के प्रति...
      आपसे सदा ही मार्गदर्शन उम्मीद रहती है.,
      कुंवर जी.

      हटाएं
    2. हर्ष आनन्द में रहिए, अपनी कोमल भावनाओं को भी जागृत रखिए
      आपका प्रेम काफी है स्नेहबंधन सुदृढ़ रखने के लिए!!

      हटाएं
  5. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी पैदल ही आये है,इसीलिए इतनी देर हो गयी.,
      इतने बेहतरीन लिंक्स के साथ मेरी पंक्तियों को भी आपने चर्चा मंच में शामिल किया... इस उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद,आभार, अब तो मुझे अपनी जिम्मेदारी और भी अधिक बड़ी महसूस हो रही है.,

      कुँवर जी,

      हटाएं
  6. दिल में उठ रहे आग को कैसे
    बुझाये...
    गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @रीना जी,
      आपका स्वागत है जी.,

      कुँवर जी,

      हटाएं
  7. याने दोनों तरफ है आग बराबर!!!!
    अब जाएँ तो जाएँ कहाँ........................

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. देखा...
    कुछ लपटे तो वहा भी उठ रही थी!
    अब..?

    बहुत अच्छी बात कही है आपने .अच्छी पोस्ट भाई साहब .

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी का यहाँ पधारने पर हार्दिक धन्यवाद्,
    ये
    स्नेहाशीष सदैव बनाये रखना...

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिल तो बच्चा हैं इसको बच्चा ही रहने देने में हर्ज क्या हैं?
    इसको दुःख देने से पहले सोचो की हमारा फ़र्ज़ क्या हैं
    कभी जलाते हैं इसको तो कभी तोड़ते हैं कांच की तरह
    पता नही चलता की इंसान को आखिर मर्ज क्या हैं.


    बहुत सुंदर रचना
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं

  12. आपकी इस रचना को कविता मंच पर साँझा किया गया है

    संजय भास्कर
    http://kavita-manch.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers