शनिवार, 27 नवंबर 2010

किस रंज के सायें में उल्लास है!



क्यों आज  आस ही   उदास है,
किस रंज के सायें में उल्लास है!

कर के मंथन कोई खुद ही,
कालकूट पीने का सा भास है!

दिल का दर्द यही  था बस,
या उसे छिपाने का ही ये प्रयास है!

बात छोटी हो या बड़ी,
भला क्यों ये अकेलेपन का एहसास है!

जय हिन्द,जय श्री राम,
कुंवर जी,

10 टिप्‍पणियां:

  1. दिल का दर्द यही था बस,
    या उसे छिपाने का ही ये प्रयास है!
    बात छोटी हो या बड़ी,
    भला क्यों ये अकेलेपन का एहसास है!
    ..बहुत ख़ूबसूरत...ख़ासतौर पर आख़िरी की पंक्तियाँ....मेरा ब्लॉग पर आने और हौसलाअफज़ाई के लिए शुक़्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों आज आस ही उदास है,
    किस रंज के सायें में उल्लास है!
    वाह बहुत खूबसूरत पँक्तियाँ। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आस पाली है जमाने से, क्या ख़ाक उल्लासी देगा
    बन शिवमय कालकूट को अब कौन भला पी लेगा

    दिल तो दर्दे जहाँ को समेटे जा रहा है आजकल
    मुहर्रिक क्या बनेगा किसी का, बैठ गया कोने में

    यह छाले भी मिटा लेंगे, मुहसिन जो आपसे है
    आती जाती बात है, कोई बुरा ख़्वाब एहसास नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  4. लक्ष्य है उँचा हमारा, हम विजय के गीत गाएँ।
    चीर कर कठिनाईयों को, दीप बन हम जगमगाएं॥
    तेज सूरज सा लिए हम, ,शुभ्रता शशि सी लिए हम।
    पवन सा गति वेग लेकर, चरण यह आगे बढाएँ॥
    हम न रूकना जानते है, हम न झुकना जानते है।
    हो प्रबल संकल्प ऐसा, आपदाएँ सर झुकाएँ॥
    हम अभय निर्मल निरामय, हैं अटल जैसे हिमालय।
    हर कठिन जीवन घडी में फ़ूल बन हम मुस्कराएँ॥
    http://shrut-sugya.blogspot.com/2010/10/blog-post_25.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. @संजय जी-

    @निर्मला कपिला जी-

    @संगीता जी-

    आपका स्वागत है जी,इस हौसलाफजाई के लिए आभार है जी!

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  6. @अमित भाई साहब-आपका तो जवाब ही नहीं है जी,तुरन्त कविता बना देते हो जी...शानदार,

    @सुज्ञ जी-आपका स्वागत है जी....

    आपने जैसे उत्साहवर्धन कर के प्रेरित किया है वो बेमिसाल है!

    @वीरेंद्र जी-आपका स्वागत है जी,पधारने के लिए धन्यवाद है जी,अब आते जाते रहना जी!

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  7. बात छोटी हो या बड़ी,
    भला क्यों ये अकेलेपन का एहसास है!

    क्या बात है..बहुत खूब ..शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  8. @केवल जी- आपका भी स्वागत है जी,उत्साहवर्धन के लिए आभार है जी,


    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers