बुधवार, 13 जनवरी 2010

सर्वप्रथम तो सभी को हाथ जोड़ कर प्रणाम !
ब्लॉग्गिंग में मेरा ये पहला अनुभव है,मुझे नहीं पता के इसके क्या-क्या सदुपयोग और क्या-क्या दुरूपयोग हो सकते है!मै अभी तो इसका प्रयोग केवल एक आलोकपुस्तिका कि तरह ही करूँगा जिसको कोई भी पढ़ ले और मै ये चेष्टा भी सदैव करता रहूँगा के इसके द्वारा किसी भी तरह की गलत जानकारी को पोषण मिलने के अवसर न मिले.......


अभी बस यही।
जय हिंद......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers