गुरुवार, 6 दिसंबर 2012

कोई संसद के बहार से हमला करता है... और कोई अन्दर से..!(कुँवर जी)

देश की जो रीढ़ है लोकतंत्र.,(?) वही सबसे बड़ी कमजोरी मुझे दिखाई पड़ती है!कम से कम पिछले कुछ दिनों से तो ऐसा ही दिखाई दे रहा है! कोई घर से बहार का मारे तो दर्द होता है वो तो होगा ही, पर जब कोई घर का ही मारता है तो दुःख भी होता है साथ में!

कल जैसे लोकतंत्र का मज़ाक बना उस से बहुत दुःख हुआ, ना कुछ कहते बन रहा है, ना चुप रहते ही बन रहा!पता नहीं रोटी ही खाते है या क्या खाते है...?

जय हिन्द,जय श्रीराम,
कुँवर जी,

3 टिप्‍पणियां:

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers