गुरुवार, 9 सितंबर 2010

आदमी कि क्या कीमत है......?(कुंवर जी)

अभी थोड़ी देर पहले ही मेरे एक मित्र ने बातों-बातों में पूछा कि आदमी कि क्या कीमत है,क्या महत्ता है?बात थी,बातों-बातों में ही आई-गयी सी हो गयी!अब वो भाईसहाब तो मजे से सो रहे है और हम है कि इसी बात पर खुद से उलझे हुए है!

सर्वप्रथम तो हम इस "कीमत" शब्द पर अटक गए,भला क्या मूल्य लगाए आदमी का यदि वो "आदमी" ही है तो?फिर आजकल "आदमी" मिलते ही कितने और कहाँ है?फिर ये महत्ता,अब किसकी किसके लिए महत्ता?इन सब चीजों किस आधार पर नापा-तौला जाए?

कुछ नहीं सूझ रहा है हमें अभी,नींद भी बेचारी बहार खड़ी-खड़ी अन्दर आने कि बाट  जोह रही है!सो उसकी ही खातिर हमें अभी ये बातें आपके हवाले कर बिस्तर की ओर कूच कर जाना चाहिए,नहीं तो नींद बेचारी बहार ही खड़ी रह जायेगी सारी रात!

मै आशा करता हूँ कि सुधिजन मुझे समझने और समझाने का भरपूर प्रयास करेंगे!अभी तो सौओ और सोने दो.....

जय हिन्द,जय श्री राम!
कुंवर जी,

16 टिप्‍पणियां:

  1. s कर उठेंगे तो बताते हैं विचार कर के.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aadmi ki kimat kya h kaise bataye,
    aadmi kise kahte h ye kaise samjhaye,
    deenge haankte bahut mil jayenge,
    par jo sach me aadmi h aise log bhala kaha paayenge

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिसकी कीमत लग जाए वो आदमी ही क्या ?
    पर नहीं हो तो लोग मुफ्त का समझते है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. Aaj kal aadmi milte hi kahaa hain ... isliye agar koi aadmi mil jaaye to uski keepat lagaana bahut hi mushkil hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. नासवा साहब से सहमत , आदमी की कोई कीमत नहीं होती और उसकी महता भी अपरम्पार ही है , मगर आदमी मिले तब न , आदमी रह कहा गए है ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. नासवा जी से सहमत हूँ………………अगर आदमी मिल जाये कोई तो मिलवा जरूर देना।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शायद मनुष्य अपने आप में अमूल्य और मूल्यहीन दोनों ही है.
    किसी आदमीं की कीमत उसके आचरण से ही जानी जा सकती है................ बाकि तो पहले नासवा जी की अगुवाई में आदमीं को खोजतें है......

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदमी के अंदर का लोहा, पोटेशियम, सल्फर, ओयोडीन, आक्सीजन आदि पदार्थों से आदमी की कीमत लगई जाए तो लगभग रू. २०० से लेकर रू. २००० तक पहुँच जाए (महंगाई का जमाना है)!!

    अगर मौके पर -- अंग आदि बेचने की बात आये तो खून, आँखें, गुर्दा, दिल आदि को मिला कर रू. २ करोड से १० करोड, आदमी की कीमत हो जायेगी !!

    अगर थोडा सा ऊपर जा कर देखें तो यह आदमी का शारीर, पाने के लिए देवता भी लालायित रहतें हैं, परमात्मा स्वयं मानव चोला धारण कर लेते हैं (अर्थात इसी में प्रवेश कर जाते हैं)इसीलिए ये अमूल्य है !! परन्तु है नश्वर, परन्तु अमूल्य नश्वर !!!

    इसे समझाने के लिए दीमाग की जरूरत होती है, पता नहीं मेरे पास है की नहीं पर लिख जरूर दिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुंवर जी,
    वैसे किसी भी वस्तु की कोई कीमत नहीं होती. एक बढई जिस कुर्सी की कीमत वसूल करता है वह कुर्सी की कीमत नहीं होती वह तो आवश्यकतानुसार बदलती रहती है
    जो कीमत हम देते हैं वह श्रम करने वाले की जीविका चलती रहने के लिए देते हैं. श्रम अपने आप में अनमोल है. वस्तु अपने आप में अमूल्य है.
    इसी तरह आदमी की कीमत तो उसके किये श्रम और महत्व से आँकी जाती है.

    यदि कीमत जानने को आमादा हो ही. तो भी उत्तर मिल सकता है, पर इसके लिए जाना होगा आपको :
    — किसी किडनेपर के पास, वहाँ बच्चे की कीमत का पता चलेगा, उसकी क्या मांग है.
    — किसी माँ के पास, जो कुछ भी गँवाकर, अपने बच्चे को पाना चाहती है.
    — किसी कम्पनी के मालिक के पास, जहाँ वह एक मजदूर का मासिक मूल्य [वेतन] तय करता है.
    — किसी राजनेता के पास, जो चुनावों में हर कीमत पर जीतना चाहता है.
    — दुर्घटना-स्थल पर, जहाँ मृत्यु के शिकार होने पर, सरकारी मिलने वाले मुआवजे तय किये जाते हैं.
    — सुपारी देने वाले और सुपारी लेने वाले के पास, जहाँ जान का सौदा किया जाता है.
    — शादी-ब्याह में लड़के के पिता के पास, जिसने लड़की वालों से डिमांड रखी है.
    >>>>>>>> इसी तरह अन्य क्षेत्र भी हो सकते हैं, जहाँ आदमी की कीमत निकाली जाती है. हाँ, एक वैश्या भी अपनी दैनिक कीमत बताकर अपनी शारीरिक कीमत बता ही देती है.
    वैसे कुछ साधु इसे अमूल्य कहते हैं और जीवन-पर्यंत इसकी कीमत घटने नहीं देते. "ज्यूँ की त्यूँ धर दीनी चदरिया" में उनका अटूट विश्वास है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. 42. abhi abhi ek supercomputer ne bataya. Bas usne units nahi batayi

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सभी का हार्दिक स्वागत है जी!जो अनुभव आपने यहाँ सांझा किया उसके लिए आप सबका आभार है जी....


    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers