सोमवार, 5 अगस्त 2013

वो तो भूखे ही रह जायेंगे ना....!!!(कुँवर जी)

बस अपनी चाल से बस दौड़ी जा रही थी!हर कोई अपनी-अपनी बातो में मशगूल था! एक वृद्ध जन बैठा-बैठा अचानक मायूस सा होता दिखाई दिया!साथ वाले ने बड़े आदर से उन से उनके यूँ दुखी होने का कारण जानना चाहा!
उन बुजुर्गवार ने बताया कि वो पिछले कई दिनों से घर से बाहर है!बस इसीलिए थोड़े चिंतित है!
तो साथ वाले ने भी बड़े दार्शनिक से अंदाज में कहा," हाँ, घर से दूर होकर घरवालो की कमी महसूस होती ही है!"
इस बुजुर्गवार ने कहा,"मै हर रोज छत पर कुछ दाने और पानी रख देता था,अगली सुबह तक दाने कोई न कोई पक्षी आकर खा जाते थे और मै फिर रख देता था!काफी दिनों से यही सिलसिला चला आ रहा था,पर पिछले कुछ दिनों से मै घर से बहार हूँ तो वह कोई दाने भी नहीं रख रहा होगा....... बस यही सोच कर चिंतित और दुखी हूँ!"
"आप भी बस... अरे पक्षियों को लेकर इतने दुखी हो रहे हो...?वो कहीं भी जाकर खा लेंगे,कही भी उनको दान-पानी मिल जायेगा!" वो साथ वाले जनाब माहौल को हल्का करते हुए बोले!
तो बुजुर्गवार अपनी दोनों भौहों को सिकोड़ते हुए बोले,"पर जो पक्षी मेरे रखे हुए दानो के लिए कहीं और के दाने छोड़ कर आयेंगे वो तो भूखे ही रह जायेंगे ना....!!!



जय हिन्द,जय श्रीराम,
कुँवर जी,

4 टिप्‍पणियां:

  1. संवेदनशील ... सोचने को विवश करती पोस्ट ...
    बुजुर्ग की चिंता वाजिब है ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब , शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

लिखिए अपनी भाषा में

Google+ Followers